2005 राम जन्मभूमि आतंकी विस्फोट केस: 4 आरोपियों को उम्रकैद की सजा, एक को बरी किया

0
157

अयोध्या स्थित राम जन्मभूमि परिसर में आतंकी हमले के मामले में प्रयागराज की विशेष अदालत ने  बड़ा फैसला सुनाते हुए चारों आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। वहीं अदालत ने इस मामले में एक आरोपी को बरी कर दिया है।

अयोध्या स्थित राम जन्मभूमि पर 5 जुलाई 2005 को हुए आतंकी हमले के पांच आरोपियों के खिलाफ मुकदमे में अदालत का फैसला  सुना दिया है। जिला शासकीय अधिवक्ता गुलाब चंद्र अग्रहरि ने बताया कि 11 जून को इस मुकदमे में बहस पूरी हो गई थी। विशेष जज एससी/एसटी एक्ट दिनेश चंद्र ने निर्णय सुरक्षित कर लिया था।

गौरतलब है कि पांचों आरोपी डॉ. इरफान, मो. नसीम, मो. अजीज, आशिक इकबाल उर्फ फारूक व मो. शकील नैनी जेल में निरुद्घ हैं। सुरक्षा कारणों से मामले की सुनवाई जेल में ही होती है। वरिष्ठ जेल अधीक्षक एचबी सिंह ने बताया कि अयोध्या प्रकरण की प्रतिदिन सुनवाई होती थी।

गौरतलब है कि पांच जुलाई 2005 को इस्लामिक आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के पांच आतंकवादियों ने अयोध्या स्थित राम जन्मभूमि परिसर की दीवार पर विस्फोटक भरी जीप से टक्कर मारी थी। जिसके बाद मुठभेड़ में वहां तैनात सुरक्षा बल ने सभी पांच आतंकियों को मार गिराया था। जबकि एक नागरिक आतंकियों द्वारा ग्रेनेड हमले में मारा गया था। सीआरपीएफ के तीन सिपाही भी हताहत हुए, जिनमें से दो गंभीर रूप से घायल हो गए थे। इस हमले के साजिशकर्ताओं के खिलाफ यह मुकदमा चल रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here