नामांकन रद्द होने के बाद एक और बड़ी मुसीबत में घिरे तेज बहादुर यादव

0
83

वाराणसी: राज्य चुनाव आयोग द्वारा नामांकन रद्द किए जाने के बाद बीएसएफ से बर्खास्त जवान तेज बहादुर यादव एक और बड़ी मुसीबत में घिर गए हैं। तेज बहादुर के खिलाफ वाराणसी में मामला दर्ज किया गया है। आरोप है कि नामांकन रद्द होने के बाद उन्होंने विरोध प्रदर्शन किया था।

गौरतलब है कि नामांकन पत्र में त्रुटि पाए जाने पर वाराणसी से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ गठबंधन प्रत्याशी तेज बहादुर यादव का नामांकन रद्द हो गया। तेज बहादुर तय समय सीमा के अंदर अपना डॉक्यूमेंट नहीं जमा कर पाए जिसकी वजह से चुनाव आयोग ने ये कार्रवाई की है।
PunjabKesari
कौन हैं तेज बहादुर यादव?
मालूम हो बीएसएफ के जवान रहे तेज बहादुर पिछले साल जम्मू-कश्मीर में तैनात जवानों को खराब खाना दिये जाने की शिकायत वाले वीडियो को सोशल मीडिया पर वायरल करने के बाद चर्चा में आये थे। उन्हें झूठे आरोप लगाने के आरोप में जुलाई 2018 में बर्खास्त कर दिया गया था। इस लोकसभा चुनाव में उन्होंने वाराणसी से प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ चुनाव लडऩे का फैसला किया था। वाराणसी से पीएम मोदी के खिलाफ लड़ रहे तेजबहादुर को कई पार्टियों का समर्थन मिल रहा है। तेज बहादुर यादव पिछले कई दिनों से पीएम मोदी के खिलाफ जोरदार प्रचार कर रहे हैं। चुनाव लडऩे के लिए जाते वक्त उन्होंने पीएम मोदी पर हमला बोलते हुए कहा था कि यह लड़ाई असली चौकीदार और नकली चौकीदार के बीच है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here