उन्नाव रेप केस में हुआ ये बड़ा खुलासा, आरोपित शिवम शादी का झांसा देकर करता था शारीरिक शोषण

0
109

उत्तर प्रदेश के उन्नाव रेप केस में नया खुलासा हुआ है। शातिर शिवम शांदी का झांसा देकर लंबे समय तक पीड़िता का शारीरिक शोषण करता रहा। उसने बकायदा युवती का वीडियो बना लिया था और ब्लैकमेल कर यौन शोषण करता था। जब पीड़िता ने शादी का दबाव बनाया तो शुभम के साथ मिलकर गैंगरेप किया। थाने में सुनवाई न होने पर पीड़िता ने कोर्ट की शरण ली थी।

उन्नाव के बिहार थाना क्षेत्र के गांव में रहने वाली गैंगरेप पीड़िता ने तहरीर देकर बताया कि शिवम ने उसे बहला-फुसलाकर प्रेमजाल में फंसा लिया था। मौका पाकर उसे रायबरेली ले गया और रेप कर मोबाइल से वीडियो बना लिया। इसे वायरल करने की धमकी देते हुए शोषण करता रहा और वह बदनामी के डर से सहती रही। शादी का दबाव बनाने पर रायबरेली शहर में किराए का कमरा लेकर बंधक बनाकर जान से मारने की धमकी दी। बीच-बीच में वह कई जिलों में ले गया और दरिंदगी करता रहा।

शिवम ने पीड़िता को दिखाने के लिए पिछले साल 19 जनवरी को रायबरेली सिविल कोर्ट ले जाकर वैवाहिक अनुबंध पत्र तैयार करवाया और कुछ दिन तक साथ रखने के बाद छोड़ दिया। युवती नाराज होकर बुआ के घर चली गई तो शिवम ने घर का भी पता लगा लिया। 12 दिसंबर को वह शुभम को लेकर सुलह करने का दबाव बनाने लगा। इसके बाद दोनों उसे मंदिर के बहाने खेत पर गए और गैंगरेप किया। 04 जनवरी को कोर्ट के आदेश पर लालगंज में दोनों आरोपितों पर केस दर्ज किया गया। शिवम को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था।

पहले थाने से भगाया, फिर लगाई चार्जशीट : पीड़िता की तहरीर के मुताबिक शिवम की धमकियों से आजिज आकर बिहार थाने से लेकर लालगंज पुलिस से कई बार गुहार लगाई,फिर भी कुछ नहीं किया गया। हार कर कोर्ट की शरण लेकर केस दर्ज करवाया। केस दर्ज करने के बाद पुलिस से मनमुताबिक चार्जशीट लगा दी।

केस वापस लेने का लगातार दबाव : पीड़िता के परिजनों के मुताबिक वह काफी गरीब हैं। उनकी कोई सुनने वाला नहीं है। काफी कोशिश के बाद केस तो दर्ज हो गया था मगर आरोपित व उसके परिजन संग गांव के लोग केस वापस लेने का लगातार दबाव बना रहे थे।

आईजी के पहुंचते ही फफक पड़े ग्रामीण: घटनास्थल का निरीक्षण करने के बाद प्रशासनिक अमले संग आईजी व डीएम आरोपितों व पीड़िता के घर पहुंचे तो युवती के परिजनों संग वहां के ग्रामीण फफक पड़े।

सीबीआई जांच की मांग : आरोपितों के परिजनों का कहना था कि हमारे बेटों को षड्यंत्र रचकर फंसाया गया है। उन्होंने जांच सीबीआई से कराने की मांग की।

शिवम की एक अन्य युवक से हुई थी बात 
पीड़िता के बयान के आधार पर नामजद 5 लोगों के अलावा पुलिस गांव के ही दो अन्य युवकों को भी उठाकर पूछताछ कर रही है। शिवम के मोबाइल फोन से मिली कॉल डिटेल के आधार उसने घटना के कुछ देर पहले गांव के एक युवक से फोन पर बात की थी। 

वैवाहिक अनुबंध का दस्तावेज वायरल 
शिवम त्रिवेदी के साथ पीड़िता का वैवाहिक अनुबंध वाला दस्तावेज तेजी से वायरल हो रहा है। पिछले साल 19 जनवरी को दोनों ने स्टांप पेपर पर वैवाहिक अनुबंध तैयार कराया था। इसमें जिक्र किया था कि दोनों ने 15 जनवरी 2018 को विवाह कर लिया था। 

रेप की रिपोर्ट में अनुबंध का जिक्र 
पीड़िता की ओर से 156 (3) और महिला आयोग को दिए गए प्रार्थना पत्र में जिक्र है कि शिवम ने अनुबंध के बाद उस छोड़ दिया। वह अपनी बुआ के घर रहने लगी तो शिवम वहां आ गया। फिर शुभम के साथ मिलकर 12 दिसंबर 2018 को गैंगरेप किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here