IL&FS घोटाला: राज ठाकरे पूछताछ के लिए पहुंचे ED दफ्तर, सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाई गई

0
70

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के प्रमुख राज ठाकरे आईएलएंडएफएस घोटाला मामले की जांच के संबंध में आज यानी गुरुवार को प्रवर्तन निदेशालय के सामने पेश होंगे. सुबह साढ़े दस बजे वो पूछताछ के लिए मुंबई में बल्लार्ड पियर स्थित ईडी दफ्तर पहुंचेंगे. एमएनएस कार्यकर्ताओं के यहां बड़ी संख्या में जमा होने के अंदेशे और कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए यहां बड़ी संख्या में पुलिसबल तैनात किया गया है.

ईडी दफ्तर के बाहर से लेकर तकरीबन 500 मीटर तक पुलिस के जवान तैनात किये गये हैं. साथ ही कई रास्ते भी बंद कर दिये गये हैं. इसके अलावा मुंबई के‌ चार थाना क्षेत्रों- दादर, एमआरए, मरीन ड्राइव और शिवाजी पार्क में धारा 144 लगा दी गई है. पुलिस ने एहतियात के तौर पर एमएनएस नेता संदीप देशपांडे को हिरासत में ले लिया है.

बता दें कि प्रवर्तन निदेशालय ने राज ठाकरे को कोहिनूर सीटीएनएल इन्फ्रास्ट्रक्चर कंपनी में आईएलएंडएफएस द्वारा 450 करोड़ रुपये से अधिक के लोन और इक्विटी निवेश से संबंधित कथित अनियमितताओं की जांच के सिलसिले में तलब किया है.

इससे पहले बुधवार को राज ठाकरे ने कहा कि उन्होंने पूर्व में भी सरकारी एजेंसियों और अदालतों से आए नोटिस का सामना किया है और इनका सम्मान किया है. इसलिए इस बार भी ईडी के नोटिस का सम्मान करते हुए पूछताछ के लिए उपलब्ध रहेंगे. इस पूछताछ से पहले राज ठाकरे ने अपने कार्यकर्ताओं और समर्थकों से शांति और संयम बनाए रखने की अपील की है.

राज ठाकरे के समर्थन में आए भाई उद्धव ठाकरे
वहीं राज ठाकरे को मिले ईडी के समन पर उनके चचेरे भाई और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने कहा कि ‘मुझे जांच से किसी ठोस नतीजे की उम्मीद नहीं है.’

वहीं मुंबई से सटे ठाणे में एमएनएस के एक कार्यकर्ता ने कथित तौर पर आत्महत्या कर ली थी. पार्टी ने दावा किया कि उसने यह कदम इसलिए उठाया क्योंकि वो अपने नेता (राज ठाकरे) को मिले ईडी के नोटिस से परेशान था. ठाणे पुलिस का कहना है कि एमएनएस कार्यकर्ता 27 वर्षीय प्रवीण चौगुले के घर से सुसाइड नोट नहीं मिला है. प्रवीण ने मंगलवार रात को कथित तौर पर आग लगाकर आत्महत्या कर ली थी.

क्या है पूरा मामला?
आईएलएंडएफएस ने कोहिनूर सीटीएनएल को लोन दिया था और इक्विटी इन्वेस्टमेंट भी किया था. सीटीएनएल ने लोन पेमेंट में डिफॉल्ट कर दिया. सीटीएनएल में राज ठाकरे भी पार्टनर थे. हालांकि, बाद में वो अपना शेयर बेचकर कंपनी से बाहर हो गए थे. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, राज ठाकरे ने उसी साल अपने शेयरों को बेचा जब आईएलएंडएफएस ने घाटे में सीटीएनएल के शेयर बेचे थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here