इमरान खान का नवाज शरीफ पर बड़ा हमला, ‘सुलह के लिए विदेशों से मांगी मदद’

0
159

इस्‍लामाबाद : पाकिस्‍तान में प्रधानमंत्री इमरान खान ने अपने राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी नवाज शरीफ पर बड़ा हमला बोला है। उनका कहना है कि भ्रष्‍टाचार के मामले में जेल में बंद नवाज ने ‘सुलह’ के लिए सरकार पर दबाव बनाने के मकसद से विदेश तक से संपर्क किया। हालांकि उन्‍हें कामयाबी नहीं मिली, क्‍योंकि जिन देशों से उन्‍होंने दखल देने के लिए कहा, उन्‍होंने ऐसा करने से मना कर दिया। इमरान ने जोर देकर कहा कि उनकी सरकार किसी दबाव में नहीं आएगी और ‘सुलह’ को लेकर कोई अध्‍यादेश नहीं लाया जाएगा।

‘डॉन’ की रिपोर्ट के अनुसार, इमरान खान ने किसी भी देश का नाम लिए बगैर कहा कि जिन दो देशों से नवाज के परिवार ने ‘सुलह अध्‍यादेश’ को लेकर दखल देने के लिए कहा, उन्‍होंने उनसे इस बारे में बताया, पर साफ कर दिया कि वे दखल नहीं देंगे। उन्‍होंने इस क्रम में पूर्व राष्‍ट्रपति परवेज मुशर्रफ के कार्यकाल में जारी किए गए ‘राष्‍ट्रीय सुलह अध्‍यादेश’ का भी जिक्र किया, जिसके तहत कई नेताओं और राजनीतिक कार्यकर्ताओं के खिलाफ मामले रद्द कर दिए गए।

उन्‍होंने कहा, ‘सुलह अध्यादेश नहीं लाया जाएगा। मुशर्रफ के कार्यकाल में दो अध्‍यादेश लाए गए, एक पीएमएल-एन के नेता नवाज शरीफ को आम माफी देने के लिए और दूसरा पीपीपी नेता आसिफ अली जरदारी के लिए। इन दोनों अध्‍यादेश ने देश को बर्बाद करके रख दिया। बाद में दोनों ने एक-दूसरे को आम माफी देने के लिए इसी तरह के अध्‍यादेश लाए।’

अल-अजीजिया भ्रष्टाचार मामले में जेल में बंद नवाज शरीफ के लिए इमरान ने कहा कि उनके लिए अब एक ही रास्‍ता बचा है। उन्‍हें वह धन लौटाना होगा, जिसे उन्‍होंने गबन किया है। नवाज शरीफ को गंभीर स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍या होने के बावजूद इलाज के लिए विदेश नहीं जाने देने के पीएमएल-एन के आरोपों पर कहा, ‘वह विदेश जा सकते हैं, लेकिन सरकार को धन अदायगी के बाद।’ उन्‍होंने साफ कहा कि उन्‍हें विदेश जाने की अनुमति तभी दी जा सकती है, जब वह सरकार के साथ अपने विवादों का समाधान कर लें।

इमरान खान ने पिछले महीने कहा था कि नवाज के लिए सुलह अध्‍यादेश को लेकर विपक्ष ‘दबाव बनाने की कोशिश कर रहा है, ताकि पीएमएल-एन नेता भ्रष्‍टाचार की जवाबदेही से बच सकें।’ नवाज की ओर से इस्‍लामाबाद हाई कोर्ट में हेल्‍थ रिपोर्ट भी पेश की गई। कोर्ट ने इस संबंध में 30 जून को अपने एक आदेश में नवाज की हेल्‍थ रिपोर्ट को ‘अस्‍पष्‍ट’ करार देते हुए ‘गिरते’ स्‍वास्‍थ्‍य के आधार पर जमानत पर रिहाई और सजा पर रोक लगाने की मांग करने वाली उनकी याचिका खारिज कर दी थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here