विराट के सबसे बड़े हथियार साबित होंगे अश्विन व जडेजा, पिछली बार दोनों ने लिए थे 46 विकेट

0
55

तीन मैचों की टेस्ट सीरीज के लिए साउथ अफ्रीका की टीम चार वर्ष के बाद भारत आई है। भारतीय धरती पर साउथ अफ्रीका के लिए ये टेस्ट सीरीज आसान तो नहीं होने वाला है खासतौर पर यहां की पिच जो स्पिनरों के लिए काफी मददगार साबित होती है। पहले टेस्ट के लिए विराट कोहली ने अपनी टीम की घोषणा कर दी है और उन्होंने टीम में दो शुद्ध स्पिनर के तौर पर आर अश्विन और रवींद्र जडेजा को शामिल किया है। यकीन मानिए इस टेस्ट सीरीज में विराट को लिए सबसे बड़े हथियार ये दोनों गेंदबाज ही साबित होंगे। 

अश्विन और जडेजा क्यों साउथ अफ्रीका के खिलाफ भारत के सबसे बड़े हथियार साबित होंगे इसके पीछे कुछ खास वजह है। जरा साउथ अफ्रीका के पिछले दौरे की बात करते हैं। इस दौरे से पहले जब साउथ अफ्रीकी टीम 2015 में भारत आई थी तब दोनों देशों के बीच चार मैचों की टेस्ट सीरीज खेली गई थी। इस टेस्ट सीरीज में टीम इंडिया को जीत मिली थी और इस जीत में भारतीय टीम के इन दोनों स्पिनरों का रोल काफी महत्वपूर्ण रहा था। 

आर अश्विन और रवींद्र जडेजा ने किया था कमाल

साल 2015 में यानी चार साल पहले चार टेस्ट मैचों की सीरीज में प्रोटियाज को भारत के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा था और इस टेस्ट सीरीज में आर अश्विन और रवींद्र जडेजा ने घातक गेंदबाजी की थी खास तौर पर अश्विन तो बेहद घातक साबित हुए थे। इन दोनों गेंदबाजों ने मिलकर चार टेस्ट मैचों में कुल 46 विकेट चटकाए थे। यानी इस टीम के खिलाफ आधे से ज्यादा विकेट तो इन दोनों ने ही अपने नाम किए थे। 

अश्विन और जडेजा की ऐसी रही थी गेंदबाजी

पिछले दौरे पर यानी 2015 में साउथ अफ्रीका के खिलाफ अश्विन ने 4 टेस्ट मैचों में कुल 31 विकेट लिए थे। इनमें से एक पारी में चार विकेट उन्होंने एक बार जबकि एक पारी में पांच या उससे ज्यादा विकेट लेने का कमाल उन्होंने चार बार किया था। वहीं जडेजा की बात करें तो उन्होंने एक पारी में चार विकेट दो बार जबकि एक ही पारी में पांच या उससे ज्यादा विकेट लेने का कमाल दो बार किया था। उस बार इन दोनों की गेंदबाजी का कोई जवाब प्रोटियाज बल्लेबाजों के पास नहीं था। अश्विन का बेस्ट प्रदर्शन 66 रन देकर 7 विकेट रहा था जबकि जडेजा का 21 रन देकर 5 विकेट था।

एक बार फिर से रहेगी उम्मीद

साउथ अफ्रीका के खिलाफ टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली को टेस्ट सीरीज में अश्विव व जडेजा से काफी उम्मीदें रहेंगी। ये दोनों ही गेंदबाज अपनी धरती पर काफी घातक गेंदबाजी करते हैं खासतौर से अश्विन तो काफी खतरनाक साबित होते हैं। दोनों की गेंदबाजों को भारत में खेलने का काफी अनुभव भी है और भारतीय पिच का बर्ताव साथ ही यहां की कंडीशन का पूरा अंदाजा होने की वजह से ये दोनों विरोधी टीम पर कहर बनकर बरसते हैं। एक बार फिर से इस बात की उम्मीद रहेगी कि ये दोनों मिलकर साउथ अफ्रीका के बल्लेबाजों की क्लास जरूर लगाएंगे। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here