भारत का पहला अंडरवाटर मेट्रो टनल बनकर हुआ तैयार, 9 लाख लोग रोज करेंगे सफर

0
389

गर आप नदी के नीचे रेल की यात्रा करना चाहते हैं तो अब जल्द ही आपकी ये इच्छा पूरी होने जा रही है. कोलकाता मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन (KMRC) अपने ईस्ट-वेस्ट प्रोजेक्ट को जल्द ही पूरा करने जा रहा है. यह टनल कोलकाता को हावड़ा से जोड़ेगा. अंडरवाटर मेट्रो टनल बनकर तैयार हो चुका है. इसमें ट्रैक बिछाने का काम भी जोरशोर पर जारी है. बताया जा रहा है कि यह पूरा प्रोजेक्ट मार्च 2022 तक बनकर तैयार हो जाएगा. यह टनल कोलकाता की हुगली नदी के नीचे बनाई गई है.

दो फेज में होगा मेट्रो का निर्माण
इस मेट्रो का निर्माण दो फेज में किया जा रहा है. कोलकाता मेट्रो का ईस्ट-वेस्ट प्रोजेक्ट करीब 16 किलोमीटर लंबा है जो सॉल्ट लेक स्टेडियम से हावड़ा मैदान तक फैला है. पहला फेज सॉल्ट लेक सेक्टर-5 से सॉल्ट लेक स्टेडियम​ के बीच 5.5 किमी लंबा है इस लाइन पर करुणामयी, सेंट्रल पार्क, सिटी सेंटर और बंगाल केमिकल मेट्रो स्टेशन मौजूद हैं. इस पर ट्रेक बिछाने का काम भी शुरू हो चुका है. दूसरा फेज अंडरग्राउंड मेट्रो का 11 किलोमीटर लंबा है.

कई विशेषज्ञों की ली गई सलाह

इस सुरंग को बनाने में रूस और थाइलैंड के विशेषज्ञों से सलाह ली गई है. वहीं सुंरग के पानी का रिसाव रोकने के लिए दुनिया की सबसे बेहतरीन तकनीक का इस्तेमाल किया गया है. इसे पानी के रिसाव से बचाने के लिए 3 स्तर के सुरक्षा कवच बनाए गए हैं. इस सुरंग में 80 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से मेट्रो ट्रेन दौड़ पाएगी.

तेजी से हो रहा काम
इस प्रोजेक्ट पर साल 2009 से काम चल रहा है. मौजूदा रेलमंत्री पीयूष गोयल के कार्यकाल में भी ये काम काफी तेज़ी से हो रहा है. उम्मीद की जा रही है कि 2021 में यह पूरी लाइन शुरू हो जाएगी. अप और डाउन लाइन पर यहां दो सुरंगें बनाई जा रही हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here