झांसी एनकाउंटर: परिजनों ने नहीं लिया पुष्पेंद्र का शव, पुलिस ने किया अंतिम संस्कार

0
214

झांसी में तथाकथित तौर पर एनकाउंटर में मारे गए करगुआं गांव के पुष्पेंद्र यादव के परिजनों ने शव लेने को तैयार नहीं थे. सोमवार देर रात पुलिस ने आनन फानन में पुष्पेंद्र यादव के शव का अंतिम संस्कार कर दिया. एनकाउंटर के बाद पुष्पेंद्र के परिजनों ने झांसी के मोठ कोतवाल धर्मेंद्र सिंह चौहान के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर जेल भेजने की मांग की थी. मृतक पुष्पेंद्र यादव की पत्नी शिवांगी बार-बार बेसुध होकर न्याय की गुहार लगाते हुए आरोपियों के विरुद्ध कार्रवाई की मांग कर रही है. शिवांगी के कहा कि घटना के दिन 8 बजे उसकी पति से फोन पर बात हुई थी. उसे क्या पता था कि वो अपने पति से आखरी बार बात कर रही है. वो पुष्पेंद्र का इंतज़ार कर रही थी लेकिन जिंदा नहीं.

उधर, पुष्पेंद्र काण्ड के विरोध में कांग्रेस, बसपा और समाजवादी पार्टी भी उठ खड़ी हुई और सभी ने एक सुर में इस मामले की जांच सीबीआई से करने की मांग की है. बता दें कि रविवार तड़के सुबह मोंठ इंस्पेक्टर पर गोली चलाने वाले पुष्पेंद्र यादव को पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया था. पुलिस के मुताबिक गुरसराय इलाके में पुलिस टीम को देखकर पुष्पेंद्र ने फायरिंग कर दी. पुलिस की जवाबी कार्रवाई में गोली लगने से पुष्पेंद्र घायल हो गया. घायल आरोपी को लेकर पुलिस जिला अस्पताल पहुंची, जहां डाॅक्टर ने मृत घोषित कर दिया.

हमले से पहले इंस्पेक्टर को किया फोन

बताया जा रहा है कि धर्मेंद्र दो दिन पहले छुट्टी पर अपने घर कानपुर गए थे. शनिवार की रात मोंठ इंस्पेक्टर कानपुर से अपनी कार से मोंठ आ रहे थे.इस दौरान पुष्पेंद्र ने रास्ते में उनको फोन कर कहा कि वह मिलना चाहता है. इस पर इंस्पेक्टर ने मोंठ से पहले हाइवे पर मिलने के लिए कहा. जैसे ही वहां कार से इंस्पेक्टर पहुंचे खनन माफिया ने फायरिंग कर दी. गोली उनके बगल से निकल गई.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here