भारतीयों को दुनिया के सामने आतंकवादी करार देने की कोशिशें कर रहा पाकिस्‍तान, अब कुक को बताया ISIS का आतंकी

0
107

जम्‍मू कश्‍मीर पर पूरी दुनिया में मुंह की खाने वाले पाकिस्‍तान ने अब भारत के खिलाफ नई साजिश को अंजाम देने की कोशिशें तेज कर दी हैं। इन कोशिशों में उसे जिगरी दोस्‍त चीन का साथ भी मिल रहा है। पिछले दिनों अफगानिस्‍तान में काम कर रहे एक इंजीनियर को आतंकी साबित करने के प्रयासों में असफल रहने पर अब पाक का निशाना कुक अजय मिस्‍त्री हैं। पाक में आईएसआई और सेना मिस्‍त्री को निशाना बनाने की कोशिशों में लगे हैं। इंग्लिश डेली हिन्‍दुस्‍तान टाइम्‍स की ओर से इस बात की जानकारी दी गई है।

चीन कर रहा है मदद

विदेश मंत्रालय के अधिकारियों के हवाले से अखबार ने लिखा है कि पाक को अपने पुराने दोस्‍त चीन की मदद मिल रही है। पाक ने पिछले दिनों यूनाइटेड नेशंस सिक्‍योरिटी काउंसिल (यूएनएससी) के रेजोल्‍यूशन 1267 के तहत मिस्त्री के खिलाफ कार्रवाई करने का प्रस्‍ताव पेश किया है। अल कायदा प्रतिबंध समिति के तहत पाक ने मिस्‍त्री को आईएसआईएस का वह आतंकी बताया है जो पाकिस्‍तान को निशाना बनाने की कोशिश कर रहा है। पाक की ओर से यह प्रस्‍ताव पाक की ओर से पिछले माह पेश किया गया है।

एक इंजीनियर को बताया आतंकी

पिछले माह भी पाक ने इसी तरह की साजिश को अंजाम देने की विफल कोशिश की थी जब उसने भारतीय इंजीनियर को आतंकी साबित करने से जुड़ा एक प्रस्‍ताव पेश किया था। सात सितंबर को अफगानिस्‍तान से भारतीय इंजीनियर वेणुमाधव डोंगारा को भारतीय एजेंसियों की तेजी की वजह से निकाला गया। इसके साथ ही पाक के मंसूबों पर भी पानी फिर गया। पाक इंटेलीजेंस एजेंसी आईएसआई की ओर से डोंगारा को आधार बनाकर इस पूरी साजिश का प्‍लॉट तैयार किया गया था। विदेश मंत्रालय के अधिकारियों की ओर से बताया गया है कि मिस्‍त्री को पाक ने 1267 के तहत पेश प्रस्‍ताव में एक ऐसे आतंकी नेटवर्क का को-ऑर्डिनेटर करार दिया है।

मिस्‍त्री को बताया ब्‍लास्‍ट का आरोपी

पाक की मानें तो अजय मिस्‍त्री आईएसआईएस-खोरसान के साथ पाक में कई तरह की गतिविधियों को अंजाम दे रहा है। पाक की ओर से एक डॉजियर भी भेज दिया गया है जिसमें बताया गया है कि अजय मिस्‍त्री ने साल 2017 और 2018 में आईएसआईएल-खोरसान के नेताओं के साथ मीटिंग की थी। इसके अलावा उसने अगस्‍त-सितंबर 2018 में आतंकी संगठन को हमलों के लिए आर्थिक मदद भी दी थी। उसकी वजह से खैबर पख्‍तूनख्‍वां के ओराकजाई के कालाया बाजार में आत्‍मघाती हमला हुआ था। इस हमले में 31 लोगों की मौत हो गई थी।

कौन हैं अजय मिस्‍त्री

भारतीय एजेंसियों के मुताबिक अजय मिस्‍त्री के पास भारत का पासपोर्ट है और उसने साल 2016 से 2018 तक अबु धाबी में एक कुक के तौर पर काम किया था। इसके अलावा साल 2008 से 2011 तक वह इराक में यूएस आर्मी कैंप में कुक के तौर पर काम कर चुके हैं। जून 2012 में वह काबुल गए थे और अफगानिस्‍तान में दो वर्षों तक रसोइए के तौर पर उन्‍होंने कहा किया। इसके बाद जब उन्‍हें वॉर्निंग दी गई तो वह भारत वापस आ गए और फिलहाल कोलकाता में हैं। सूत्रों की मानें तो पाक कम से चार भारतीयों को आतंकवाद के तहत फंसाने की कोशिशें कर रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here