दुनिया बदली लेकिन राष्ट्रपति रहे पुतिन, 12 साल के लिए फिर राष्ट्रपति बनाने को हुआ संविधान संशोधन

0
506

दुनिया बदल गई, लेकिन रूस का मतलब राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन है। वह साल 2000 से रूस का नेतृत्व कर रहे हैं। रूसी संसद ने बुधवार को तीसरे और अंतिम रीडिंग में एक व्यापक संवैधानिक सुधार को मंजूरी दे दी। इस कदम से राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को 2024 में उनके वर्तमान कार्यकाल के समाप्त होने के बाद 12 साल तक और सत्ता में बने रह सकेंगे। क्रेमलिन-नियंत्रित निचले सदन, स्टेट ड्यूमा ने संविधान में संशोधन किया, जिसमें 383-0 मतों के साथ संशोधित करने के लिए वोट मिले, जबकि 43 सदस्य वोटिंग में अनुपस्थित रहे। इस प्रस्तावित संशोधनों पर एक राष्ट्रव्यापी वोटिंग 22 अप्रैल को होगी।

भारत की बात करें पुतिन के कार्यकाल के दौरान, तो पीएम मोदी, मनमोहन सिंह और इससे पहले अटल बिहारी वाजपेई की सरकार बनी। वहीं, अमेरिका में डोनाल्ड ट्रंप, बराक ओबामा, जॉर्ज बुश के शासन को भी पुतिन ने देखा है।

क्रेमलिन के आलोचकों ने इस संशोधन को एक सनकी हेरफेर के रूप में करार देते हुए इस कदम की निंदा की और विरोध प्रदर्शनों का आह्वान किया। केजीबी के 67 वर्षीय पूर्व अधिकारी पुतिन रूस पर 20 साल से अधिक समय से शासन कर रहे हैं। चार साल के दो लगातार कार्यकाल में राष्ट्रपति रहने के बाद संविधान की बाध्यता के चलते पुतिन साल 2008 में प्रधानमंत्री बने और उनकी जगह करीबी सहयोगी दिमित्री मेदवेदेव राष्ट्रपति बने।

इसके बाद राष्ट्रपति पद की समय सीमा को मेदवेदेव के कार्यकाल में छह साल तक बढ़ा दिया गया था। साल 2012 में पुतिन फिर से क्रेमलिन में बतौर राष्ट्रपति लौट आए। साल 2018 में उन्हें फिर से छह साल के लिए रूस का राष्ट्रपति चुना गया। बुधवार को ड्यूमा द्वारा पारित संवैधानिक सुधार के बाद पुतिन को साल 2024 के बाद दो बार फिर से राष्ट्रपति पद के चुनाव में खड़े होने की अनुमति होगी। राष्ट्रव्यापी वोटिंग से पहले इस संशोधन की समीक्षा रूस के संवैधानिक न्यायालय द्वारा की जाएगी।

वर्तमान राष्ट्रपति के लिए टर्म क्लॉक को फिर से शुरू करने का प्रस्ताव मंगलवार को संशोधनों के दूसरी रीडिंग के दौरान 83 वर्षीय पूर्व सोवियत कॉस्मोनॉट वैलेंटिना टेरेशकोवा ने रखा था, जो अब एक ड्यूमा डिप्टी हैं। वैलेंटिना के भाषण के बाद सांसदों को संबोधित करने के लिए पुतिन जल्दी से संसद पहुंचे और इस विचार का समर्थन किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here