ट्रंप का विदेशी मूल की महिला सांसदों पर निशाना, कहा – जहां से आई हैं वहीं लौटकर हालात सुधारें

0
57

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और विवादों का चोली-दामन का साथ बन गया है. ताजा विवाद उनके हालिया ट्वीटों पर है जिनमें उन्होंने डेमोक्रेटिक पार्टी की कुछ महिला सांसदों को निशाना बनाया है. डोनाल्ड ट्रंप का कहना था कि इन सांसदों को वहीं लौट जाना चाहिए जहां से वे आई हैं. अमेरिकी राष्ट्रपति ने दावा किया कि इन सांसदों ने अमेरिका के बारे में बहुत सी भयानक बातें कही हैं जिन्हें चुनौती देना जरूरी है. डोनाल्ड ट्रंप का यह भी कहना था कि इन सांसदों को अमेरिका की आलोचना के बजाए अपने देश के हाल ठीक करने चाहिए. उन्होंने किसी का नाम तो नहीं लिया पर माना जा रहा है कि उनका निशाना न्यूयॉर्क की एलेक्जेंड्रिया ओकासियो कॉर्टेज, मिनिसोटा की इल्हान ओमर, मिशिगन की राशिदा तलाइब और मैसाचुसेट्स की अयाना प्रेस्ली हैं. इन्होंने मैक्सिको सीमा पर मौजूद शरणार्थी हिरासत केंद्रों में हालात खराब होने का आरोप लगाते हुए ट्रंप प्रशासन की आलोचना की थी.

इसके बाद डोनाल्ड ट्रंप पर नस्लवाद के आरोप लग रहे हैं. अमेरिका के निचले सदन हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव की स्पीकर नैंसी पेलोसी ने राष्ट्रपति की इन टिप्पणियों को विभाजनकारी क़रार दिया है. डेमोक्रेटिक नेताओं का समर्थन करते हुए उन्होंने ट्टीट किया, ‘जब डोनाल्ड ट्रंप चार अमेरिकी सीनेटरों को अपने देश वापस जाने के लिए कहते हैं तो इससे उनके मेक अमेरिका ग्रेट अगेन की योजना साफ हो जाती है. वे हमेशा से अमेरिका को व्हाइट बनाना चाहते हैं. हमारी विविधता हमारी ताकत है और हमारी एकता हमारी शक्ति है.’

सीनेटर कमला हैरिस ने भी इन टिप्पणियों की आलोचना की है. उनका कहना था, ‘ये पुराना तरीका है. कह देना कि जहां से आए थे वहीं चले जाएं. ऐसी बातें सड़कों पर सुनाई देती हैं, लेकिन इन्हें अमेरिकी राष्ट्रपति की जुबान पर नहीं होना चाहिए.’ कमला हैरिस ने कहा कि डोनाल्ड ट्रंप को बोलने की तमीज नहीं है.


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here