अगर आप भी तांबे के बर्तन में पीते हैं पानी तो इन बातो का रखे विशेष ख्याल

0
41





आयुर्वेद के अनुसार, तांबे के बर्तनों में रखा पानी पीना बहुत ही फायदेमंद माना जाता है। तांबे के बर्तन में पानी पीने से आपको एनर्जी मिलती है और शरीर में मौजूद सारे टॉक्सिन्स पदार्थ भी बाहर निकलते हैं। रात भर तांबे के बर्तन में रखा पानी पीने से पानी में मौजूद बैक्टीरिया नष्ट होते हैं और पानी भी शुद्ध होता है। इस बर्तन में रखा पानी एक नैचुरल डिटॉक्स ड्रिंक के रुप में माना जाता है। लेकिन इस बर्तन में पानी पीने से पहले कुछ बातों का खास ध्यान रखना चाहिए।

  1. तांबे के बर्तन में रखे पानी में एंटीसेप्टिक और गर्म शक्ति के गुण होते हैं। यह तत्व गर्मी जैसी मौसम के अलावा शरीर के लिए सर्दियों में ज्यादा लाभकारी होते हैं।
  2. यदि आप तांबे के बर्तन में रखा हुआ पानी पीते हैं तो उसे कम से कम 6-8 घंटे के लिए स्टोर करके रखें। लंबे समय तक पानी को इसलिए रखना चाहिए ताकि उसमें आयरन तत्वों की कमी न हो सके।
  3. दिन में या फिर लंबे समय तक एक या दो गिलास से ज्यादा पानी भी न पिएं। इससे आपको गर्मी और त्वचा संबंधी समस्याएं भी हो सकती हैं।
  4. यदि आपको एसिडिटी, रक्त संबंधी या फिर शरीर में गर्मी से संबंधी समस्याएं हैं तो तांबे के बर्तन में रखा पानी पीना आपके स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक हो सकता है। ऐसी समस्याओं से पीड़ित व्यक्ति को तांबे का पानी पीने से मतली और उल्टी जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं।

सफाई का रखें विशेष ध्यान
तांबे के बर्तनों की अच्छे से सफाई करना भी आवश्यक है। यदि बर्तनों की अच्छे से देखभाल न की जाए तो वह ऑक्सीकृत हो जाते हैं। बर्तनों को अच्छे से धोने के लिए आप नींबू के रस या फिर इमली के गूदे का इस्तेमाल कर सकते हैं। बर्तनों का ज्यादा सूखा ही रखें और किसी डार्क जगह पर इन्हें स्टोर बिल्कुल भी न करें।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here