5 महीने बाद CBI ने लिया धीरज अहलावत की मौत का केस, लापता होने के 2 दिन बाद मिली थी लाश

0
346

हरियाणा सरकार ने 17 अक्टूबर को मामले की जांच सीबीआई से कराने की सिफारिश की थी. केंद्र सरकार ने 6 जनवरी को हरियाणा सरकार की सिफारिश मंजूर कर ली. अब अपने हाथ में केस लेने के बाद सीबीआई ने अज्ञात लोगों के खिलाफ एक केस दर्ज किया है और मामले की छानबीन शुरू कर दी है.

देश की शीर्ष जांच एजेंसी केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) ने एक निजी बैंक के वरिष्ठ अधिकारी की मौत के पांच महीने बाद उसकी जांच का जिम्मा हरियाणा पुलिस (Haryana Police) से अपने हाथों में लिया है. यस बैंक (Yes Bank) के वाइस प्रेसिडेंट (Vice President) धीरज अहलावत पांच महीने पहले गुरुग्राम (Gurugram) स्थित अपने घर से लापता हो गए थे. उसके दो दिन बाद शहर से सटे दिल्ली में उनकी लाश मिली थी.
धीरज अहलावत गुरुग्राम के सेक्टर 46 में रहते थे. 38 वर्षीय धीरज पिछले साल 5 अगस्त को घर से बाहर टहलने गए थे लेकिन वो वापस लौटकर नहीं आए. दो दिन बाद दिल्ली के रोहिणी में उनकी लाश लावारिश हालत में मिली

उनके परिवार ने तब आरोप लगाया था कि बड़ी साजिश के तहत पहले उनका अपहरण किया गया और बाद में हत्या कर दी गई क्योंकि वह कॉरपोरेट लोन डील कर रहे थे. धीरज यस बैंक के कॉरपोरेट बैंकिंग विभाग में बतौर वाइस प्रेसिडेंट कार्यरत थे. धीरज की लाश एक नहर में मिली थी, तब उनके परिवार ने देखा था कि उनकी कलाई पर राखी बंधी है जो उनकी बहन ने बांधी थी.

हरियाणा पुलिस मामले की जांच कर रही थी लेकिन दो-ढाई महीने तक केस में कोई प्रगति नहीं होने पर उनके परिजनों ने अक्टूबर में राज्य के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से मुलाकात की थी और मामले की जांच सीबीआई से कराने का अनुरोध किया था. इससे पहले हरियाणा पुलिस ने मामले की तफ्तीश के लिए एसआईटी का भी गठन किया था लेकिन उनके हाथ कोई सुराग नहीं लगा.

हरियाणा सरकार ने 17 अक्टूबर को मामले की जांच सीबीआई से कराने की सिफारिश की थी. केंद्र सरकार ने 6 जनवरी को हरियाणा सरकार की सिफारिश मंजूर कर ली. अब अपने हाथ में केस लेने के बाद सीबीआई ने अज्ञात लोगों के खिलाफ एक केस दर्ज किया है और मामले की छानबीन शुरू कर दी है. सीबीआई ने गलत मंशा से अपहरण करने और हत्या का केस दर्ज किया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here