Disha Ravi Tookkit Case : दिशा रवि पर अमित  शाह का आया सख्त बयान,अगर कोई व्यक्ति अपराध करता है तो उसकी उम्र, प्रोफेशन पूछना चाहिए

0
211

किसान आंदोलन के समर्थन में टूलकिट मामले को लेकर दिशा रवि की गिरफ्तारी पर देश में कई लोग सवाल उठा रहे हैं। इस संबंध में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से सवाल पूछा गया। इसके जवाब में शाह ने कहा कि आखिर इसमें गलत क्या है? केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि अगर कोई व्यक्ति कोई क्राइम करता है तो उसकी उम्र पूछनी चाहिए क्या? उसका प्रोफेशन पूछना चाहिए क्या? वह किससे जुड़ा है यह पूछना चाहिए क्या? या फिर गुनाह किया है या नहीं किया है उसके आधार पर तय होगा।

सवाल उठाने का नया फैशन चल पड़ा है
टीवी चैनल एबीपी के कार्यक्रम में अमित शाह ने कहा कि अगर कल को कोई कुछ कर देता है…बड़ा गुनाह कर देता है और मानो वह कुछ भी है तो ऐसा कहना चाहिए कि क्यों राजनेताओं पर किया है, प्रोफेसरों पर किया है, क्यों किसानों पर किया है। केंद्रीय मंत्री ने सवाल उठाया कि ऐसा करेंगे क्या? शाह ने कहा कि ये क्या नया तरीका निकाल लिया है। जेंडर, प्रोफेशन और उम्र इसके आधार पर तय होगा कि एफआईआर होगी या नहीं। या गुनाह किया है या नहीं इसके आधार पर तय होगा। एक नया फैशन चल पड़ा है। उन्होंने कहा कि इस देश में अदालत है या नहीं। अगर गलत एफआईआर है तो आप उसे खारिज कराने के लिए अदालत जा सकते हैं।

पुलिस को नहीं दिए खास निर्देश
केंद्रीय मंत्री ने कहा कि किसान आंदोलन से जुड़ी जांच को लेकर वह केस या उसके मेरिट के बारे में कुछ नहीं कहेंगे। शाह ने कहा कि यह उनका विषय नहीं है। उन्होंने कहा कि आईपीएस अधिकारियों को पेशेवर तरीके से अपना काम करना चाहिए। हमें उनकी जांच पर पूरा भरोसा है। शाह ने कहा कि इस केस को लेकर दिल्ली पुलिस के अधिकारियों को कोई खास निर्देश नहीं दिए गए हैं जिससे की कानून को तोड़-मरोड़ कर कुछ करना पड़े। वे लोग संविधान के तहत काम कर रहे हैं।
कई लोग गिरफ्तार होते हैं तो फिर इस पर सवाल क्यों
शाह ने कहा कि 21-22 साल के कितने युवा होंगे जो गिरफ्तार होते हैं तो फिर एक खास मामले को क्यों उठाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि दिल्ली पुलिस के पास कुछ तो सबूत होंगे। शाह ने मीडिया पर भी सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि मीडिया भी इसमें लग जाता है। कोई पूछे तो सिर्फ आप ही क्यों? देश में 21 साल की कितनी बच्चिया हैं। उन्होंने कहा कि दिल्ली पुलिस पेशेवर तरीके से अपना काम कर रही है। हो सकता है कि असेसमेंट में गलती हो, मुझे मालूम नहीं है। हालांकि गलती होने की संभावना कम है, क्योंकि यह संवेदनशील मामला है। लेकिन इसके खिलाफ अदालत तो अदालत खुली है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here