देश के 7 राज्यों में बर्ड फ्लू का खतरा: केंद्र सरकार ने दिए अहम निर्देश

0
192

नई दिल्ली: कोरोना महामारी के खतरे के बीच भारत में परिंदों की तेजी से होती मौतों ने दहशत फैला दी है. देश के कई राज्यों में बर्ड फ्लू (Bird Flu) के मामलों की पुष्टि हुई और कई राज्यों में जंगली पक्षियों, कौवे और मुर्गियों की मौत के कारणों का पता लगाया जा रहा है. बर्ड फ्लू को रोकने के लिए केंद्र सरकार ने स्थानीय अधिकारियों के साथ समन्वय तेज कर दिया है. पशुपालन और डेयरी विभाग ने संभावित हॉटस्पॉट की निगरानी बढ़ाने और निरंतर संचार बनाए रखने के लिए कहा है. जिन राज्यों में अब तक बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है उनमें उत्तर प्रदेश, केरल, राजस्थान, मध्य प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा और गुजरात शामिल हैं.
मामले से जुड़ी अहम जानकारियां :
केंद्र सरकार ने कहा कि दिल्ली, छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र में मृत पक्षियों के नमूने जांच के लिए भेजे गए हैं जिनकी रिपोर्ट आने के बाद ही वहां बर्ड फ्लू होने या न होने संबंधी कोई पुष्टि हो पाएगी. दिल्ली में बर्फ फ्लू के खतरे के बीच जसोला में बीते तीन दिन में कम से कम 24 कौए और संजय झील में 10 बत्तख मरी हुई मिली हैं.
महाराष्ट्र के एक कुक्कुट पालन केंद्र में 900 पक्षियों सहित पूरे भारत में शनिवार को 1,200 से अधिक पक्षी मृत मिले. इसके साथ ही केंद्र ने कहा कि उत्तर प्रदेश में भी बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है और अब इस बीमारी से संबंधित राज्यों की संख्या सात हो गई है.
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने कल कहा कि बर्ड फ्लू की दहशत के मद्देनजर राष्ट्रीय राजधानी में जीवित पक्षियों के आयात पर रोक लगा दी गई है तथा गाजीपुर कुक्कुट बाजार अगले 10 दिन तक बंद रहेगा. दिल्ली में अभी तक एवियन इन्फ्लुएंजा या बर्ड फ्लू का कोई पुष्ट मामला नहीं है, केजरीवाल ने कहा कि नमूने जालंधर स्थित प्रयोगशाला भेजे गए हैं.
मुख्यमंत्री ने संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘दिल्ली में अब तक बर्ड फ्लू का कोई पुष्ट मामला नहीं है. हमने लगभग 104 नमूने जालंधर स्थित प्रयोगशाला भेजे हैं जिनकी रिपोर्ट परसों आएगी. दिल्ली सरकार रिपोर्ट के आधार पर आवश्यक निर्णय करेगी.” केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में बर्ड फ्लू के प्रसार को रोकने के लिए एहतियात के तौर पर कई कदम उठाए जा रहे हैं.
महाराष्ट्र के परभणी जिले के मुरुम्बा गांव स्थित मुर्गी पालन केंद्र में 900 मुर्गियों की मौत हो गई है. परभणी के जिलाधिकारी दीपक मुलगीकर ने बताया कि मौत की वास्तविक वजह जानने के लिए नमूनों को जांच के लिए भेजा गया है और जांच रिपोर्ट की प्रतीक्षा है.
राजस्थान में शनिवार को 350 से अधिक पक्षियों के मरने की खबर मिली जिससे राज्य में मृत पक्षियों की संख्या 2,512 हो गई है. 356 पक्षियों के मरने की खबर है, जिनमें से 257 कौए, 29 कबूतर, 16 मोर और 54 अन्य पक्षी शामिल हैं.
गुजरात में बर्ड फ्लू के पहले मामले की पुष्टि के बाद राज्य के जूनागढ़ जिले की मंग्रोल तालुका स्थित एक गांव में चार कौवों के मृत मिलने से दहशत और बढ़ गई है. राज्य में शुक्रवार को बर्ड फ्लू के पहले मामले की तब पुष्ट हुई जब दो मृत टिटहरियों में से एक के नमूने में संबंधित विषाणु का संक्रमण पाया गया. अधिकारी ने कहा कि पिछले कुछ दिनों में सूरत और मेहसाणा जिलों में मृत मिले चार कौओं के नमूनों की जांच रिपोर्ट का इंतजार है.
उत्तराखंड में पौड़ी गढ़वाल जिले के सिताबपुर इलाके में एक नाले में पांच कौए मृत मिले. पशु चिकित्सा अधिकारी बी एम गुप्ता ने बताया कि मृत पक्षियों के नमूने जांच के लिए भोपाल स्थित प्रयोगशाला भेजे गए हैं. पक्षियों की मौत के बाद प्रशासन सतर्क हो गया है.
बर्ड फ्लू की दहशत के चलते हरियाणा के पंचकूला जिले में पांच कुक्कुट पालन केंद्रों में 1.60 लाख से अधिक कुक्कुट पक्षियों को मारने का काम शुरू कर दिया गया. यह कदम इसलिए उठाया गया है क्योंकि पंचकूला के खेड़ी और गनौली गांवों में दो कुक्कुट पालन केंद्रों में शुक्रवार को कुछ पक्षियों के नमूनों में एवियन फ्लू का एच5एन8 विषाणु पाया गया.
कुक्कुट पालन केंद्रों के मालिकों को 90 रुपये प्रति पक्षी के हिसाब से मुआवजा दिया जाएगा. उल्लेखनीय है कि पिछले महीने पंचकूला में कुक्कुट पालन केंद्रों में लगभग चार लाख पक्षियों की मौत हो चुकी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here