पाक-चीन की जुगलबंदी बड़ा खतरा, टकराव की आशंका से इनकार नहीं: आर्मी चीफ

0
83

नई दिल्ली: सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने मंगलवार को सालाना प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि उत्तरी सीमा पर अलर्ट हैं, किसी भी चुनौती का सामना करने को तैयार हैं. उन्होंने कहा कि पश्चिमी सीमा पर पाकिस्तान पहले वाली हरकतें कर रहा है, लेकिन हमने साफ-साफ कहा है कि यह हम बर्दाश्त नही करेंगे. उत्तरी सीमा पर हम अलर्ट हैं, और किसी भी चुनौती का सामना करने के लिए तैयार हैं. आठ राउंड की बातचीत हो चुकी है, और अब नौवें राउंड की होगी.

मामला बातचीत से हल होगा, लेकिन हम किसी भी हालत के लिए तैयार हैं. उत्तरी सीमा और COVID-19 के चलते यह पूरा साल चुनौतियों से भरा रहा है. हमने दोनों का सामना किया, कम नोटिस पर सेना को ज़रूरत के मुताबिक तैनात किया, और सभी राज्यों और लोगों की मदद की. क्वारैंटाइन कैम्प बनाए साथ ही उन्होंने कहा कि भविष्य की चुनौती का सामना करने के लिए सेना में बदलाव किए जा रहे हैं, और तकनीक पर फोकस किया जा रहा है. सेना का आधुनिककरण करने की कोशिश जारी है, जिसके लिए ज़रूरी बजट भी मिला है. हमारी ऑपरेशनल तैयारी काफी है, और जवानों का मनोबल काफी ऊंचा है. पहले की तुलना में हमारी क्षमता भी काफी बढ़ी है, तथा ठंड से बचने के उपाय किए गए हैं.

आर्मी चीफ एम एम नरवणे ने कहा है कि देश की सेना न सिर्फ पूर्वी लद्दाख में बल्कि उत्तरी बॉर्डर पर भी हाई अलर्ट मोड में है. यहां सेना हर चुनौती से निपटने को तैयार है. आर्मी चीफ ने अपने वार्षिक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि पिछला साल चुनौतियों से भरा था. बॉर्डर पर तनाव था और कोरोना संक्रमण का भी खतरा था. लेकिन सेना ने इसका कामयाबी से सामना किया है.

चीन पाकिस्तान की जुगलबंदी खतरनाक

सेना प्रमुख एम एम नरवणे ने कहा कि पाकिस्तान और चीन मिलकर भारत के लिए एक शक्तिशाली खतरा पैदा करते हैं और टकराव की आशंका को दूर नहीं किया जा सकता है. उन्होंने कहा कि हमने उत्तरी बॉर्डर पर और लद्दाख में उच्च स्तर की तैयारी की है और किसी भी चुनौती से निपटने को तैयार हैं.

आकस्मिक चुनौती का सामना करने को तैयार

लद्दाख और उत्तरी सीमा की तैयारियों के बारे में बताते हुए आर्मी चीफ ने कहा कि सेना ने सर्दियों को लेकर पूरी तैयारी की है. लद्दाख की स्थिति की जानकारी देते हुए सेना प्रमुख ने कहा कि हमें शांतिपूर्ण समाधान की उम्मीद है, लेकिन हम किसी भी आकस्मिक चुनौती का सामना करने को तैयार हैं. इसके लिए भारत की सभी लॉजिस्टिक तैयारी संपूर्ण है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here