Delhi Riots: नताशा नरवाल मामले में दिल्ली HC की सख़्त टिप्पणी- सरकार ने विरोध के अधिकार और आतंकी गतिविधियों का अंतर ख़त्म किया

0
272

दिल्ली दंगा मामले में आरोपी जेएनयू स्टूडेंट नताशा नरवाल और उनके साथियों को आज दिल्ली हाईकोर्ट से जमानत मिल गई है. नताशा नरवाल को जमानत देते हुए दिल्ली हाईकोर्ट ने सरकार के रवैये पर सख्त टिप्पणी की है. हाईकोर्ट ने कहा “हम ये कहने के लिए मजबूर हैं कि असहमति की आवाज़ को दबाने की जल्दबाजी में सरकार ने संविधान की ओर से दिए गए विरोध-प्रदर्शन के अधिकार और आतंकवादी गतिविधियों के अंतर को ख़त्म सा कर दिया है.”

नताशा को सीएए के विरोध में दिल्ली दंगों में प्लानिंग के तहत शामिल होने के आरोप में मई 2020 में गिरफ्तार किया गया था. दिल्ली में 24 फरवरी 2020 को दंगा भड़क गया था. इस सांप्रदायिक हिंसा में 53 लोगों की मौत हो गई थी वहीं 200 से ज्यादा लोग जख्मी हुए थे. दिल्ली दंगा मामले में जेल में बंद आरोपी नताशा नरवाल के साथ ही देवांगना कलिता और आसिफ इकबाल तन्हा को भी जमानत दे दी गई है.

दिल्ली HC से नताशा नरवाल को मिली जमानत

दंगा मामले में ताहिर हुसैन, खालिद, इशरत जहां,नताशा नरवाल, देवांगना कलिता,मीरान हैदर समेत कई को आरोपी बनाया गया था. वहीं नताशा, देवांगना आसिफ इकबाल को हाई कोर्ट से जमानत मिल गई है तो वहीं बाकूी आरोपी अब भी जेल में सजा काट रहे हैं. दिल्ली हाईकोर्ट ने जमानत देते हुए कहा तीनों आरोपी देवंगाना कलिता, नताशा नारवाल और जामिया के स्‍टूडेंट आसिफ इकबाल तन्‍हा जांच में सहयोग करेंगे बिना कोर्ट की इजाजत के देश छोड़कर नहीं जाएंगे.

दिल्ली में हिंसा भड़काने की प्लानिंग का आरोप

नताशा को पिछले साल मई में दिल्ली पुलिस ने अरेस्ट किया  था, उन पर आरोप है कि वे NRC/CAA के आंदोलन के दौरान पिछले साल फरवरी महीने में होने वाले दंगों के पीछे की साजिश में शामिल रही हैं. उनपर UAPA के चार्जेस लगाए गए हैं. वहीं नताशा नारवाल को पिछले माह अपने पिता महावीर नारवाल के अंतिम संस्‍कार के तीन हफ्ते के लिए अंतरिम जमानत मंजूर की गई थी. महावीर, कम्‍युनिस्‍ट पार्टी के वरिष्‍ठ सदस्‍य थे और कोरोना वायरस की वजह से उनकी मौत हो गई थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here