किसान आंदोलन के समर्थन में ट्वीट करने पर ग्रेटा थनबर्ग पर दिल्ली में FIR दर्ज

0
250

पर्यावरणविद ग्रेटा तनबर्ग (थनबर्ग) का किसान आंदोलन के प्रति समर्थन जाहिर करना दिल्ली पुलिस को नागवार गुजरा है। पुलिस ने गुरूवार को ग्रेटा के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज की है। ग्रेटा ने ट्वीट कर कहा था कि वह भारत में चल रहे किसानों के आंदोलन का समर्थन करती हैं। 
ग्रेटा ने सीएनएन के आर्टिकल को ट्विटर पर शेयर किया था। इस आर्टिकल में इंटरनेट बंद किए जाने का जिक्र किया गया था। ग्रेटा के अलावा पॉप गायिका रियाना (रिहाना) ने भी किसान आंदोलन को लेकर ट्वीट किया था और इसे लेकर सोशल मीडिया पर माहौल काफी गर्म है। रियाना ने दिल्ली के बॉर्डर्स पर इंटरनेट को बंद किए जाने को लेकर कहा था कि हम लोग इस पर बात क्यों नहीं कर रहे हैं। 

विदेश मंत्रालय ने जताया था एतराज

रियाना के ट्वीट को लेकर भारत के विदेश मंत्रालय ने सख़्त एतराज जताया था। रियाना के ट्वीट और उस पर हो रही ज़ोरदार प्रतिक्रिया पर भारत सरकार ने बग़ैर किसी का नाम लिए औपचारिक रूप से प्रतिक्रिया दी थी। विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा था कि इस आंदोलन को भारत के लोकतांत्रिक मूल्यों और भारत सरकार व किसान संगठनों की ओर से समस्या का समाधान ढूंढने की कोशिशों के परिप्रेक्ष्य में ही देखा जाना चाहिए। 
अपने बयानों और ट्वीट को लेकर विवादों में रहने वालीं अभिनेत्री कंगना रनौत भी रियाना के ट्वीट पर बीच में कूद गई थीं। कंगना ने कहा था, ‘इस पर कोई चर्चा नहीं कर रहा है क्योंकि वे किसान नहीं हैं, आतंकवादी हैं जो देश को टुकड़े-टुकड़े करने पर आमादा हैं। वे अमेरिका की तरह भारत को भी चीन का उपनिवेश बनाना चाहते हैं। मूर्ख, बैठ जाओ। हम तुम्हारी तरह देश नहीं बेच रहे हैं।’

ग्रेटा को बताया बच्ची 

रियाना और ग्रेटा के ट्वीट पर नई दिल्ली सीट से बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी ने गुरूवार को प्रतिक्रिया दी। लेखी ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि किसान आंदोलन को लेकर विदेशी हस्तियों के ट्वीट आना देश के ख़िलाफ़ चल रही साज़िश का समर्थन करने जैसा है। लेखी ने ग्रेटा को बच्ची बताया और कहा कि अगर उनके हाथ में होता तो वह उन्हें बाल पुरस्कार देतीं और नोबेल पुरस्कार पाने वालों की लिस्ट से उनका नाम हटा देती। 
लेखी ने सवाल पूछा कि किसी पर्यावरणविद को आखिर क्यों ऐसे किसानों का समर्थन करना चाहिए जो पराली जलाए जाने के लिए जिम्मेदार हैं और इसकी वजह से दिल्ली और इसके आसपास के लोगों की सेहत पर असर पड़ता है। 

कमला हैरिस की भांजी का ट्वीट

अमेरिकी उप-राष्ट्रपति कमला हैरिस की भांजी  मीना हैरिस ने पिछले महीने अमेरिकी संसद में तत्कालीन राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप के समर्थकों के जबरन घुस जाने और तोड़फोड़ करने की वारदात को भारत में किसान आंदोलन से जोड़कर ट्वीट किया था। 
उन्होंने कहा, “यह महज संयोग नहीं है कि दुनिया के सबसे पुराने लोकतंत्र में एक महीने पहले हमला हुआ था और हम दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश में लोकंतत्र पर हमला होता देख रहे हैं। हमें किसान आंदोलन पर हो रही अर्द्धसैनिक हिंसा और इंटरनेट बंद किए जाने पर गुस्सा होना चाहिए।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here