मुनमुन धमीचा के वकील ने कोर्ट से कहा- मेरी क्लाइंट के पास से नहीं मिला ड्रग्स, आखिर वह जेल में क्यों है

0
229

क्रूज ड्रग्स केस मामले में बुधवार को आर्यन खान समेत तीन आरोपियों की जमानत पर सुनवाई हुई. इस मामले में एनसीबी ने इंटरनेशनल ड्रग रैकेट का जिक्र किया और जमानत का विरोध किया. एनसीबी की ओर से कहा गया है कि किसी भी व्यक्ति को छोड़ने पर जांच प्रभावित हो सकती है. कोर्ट में आर्यन खान, अरबाज मर्चेंट और मुनमुन धमीचा की जमानत पर सुनवाई हुई. लंबी सुनवाई के बाद कोर्ट ने फैसला किया कि मामले में सुनवाई गुरुवार को भी जारी रहेगी.

सुनवाई के दौरान मुनमुन के वकील अली काशिफ खान ने कहा कि मेरी क्लाइंट के पास से कोई ड्रग्स नहीं मिला है. बल्कि उनके कमरे से यह मिला है. जिसे किसी अन्य व्यक्ति ने बुक किया था. उन्होंने कहा कि मुनमुन के कमरे में टेबल के कोने पर ड्रग्स का पैकेट मिला था.

मुनमुन के वकील ने कहा कि मेरी क्लाइंट एक फैशन मॉडल हैं. उन्हें क्रूज पर उनके काम के लिए आमंत्रित किया गया था. बलदेव नाम के व्यक्ति ने मेरी क्लाइंट को इनवाइट किया था लेकिन उसे गिरफ्तार नहीं किया गया है. मेरी क्लाइंट जब क्रूज में चढ़ीं उसी के दो मिनट बाद वहां तलाशी शुरू हो गई. उनके कमरे के एक कोने से एक पैकेट मिला. उन्होंने पंचनामा का जिक्र करते हुए कहा कि पंचनामा में कहा गया है कि मुनमुन के साथ दो लोग और थे, उन दोनों को आरोपी नहीं बनाया गया है.

‘मेरी क्लाइंट जेल में क्यों हैं’

अली काशिफ खान ने कहा कि एक प्लास्टिक का पैकेट तलाशी के दौरान डेस्क के कॉर्नर से मिला था. पंचनामा में एक जगह इस बात का जिक्र है कि मुनमुन के कमरे की तलाशी के दौरान कुछ नहीं मिला, लेकिन एक दूसरे आरोपी के सामान से ड्रग्स मिला है. मैं ये जानना चाहता हूं कि मेरी क्लाइंट जेल में क्यों हैं? जिनके पास से ड्रग्स मिला है मेरी क्लाइंट उन्हें नहीं जानती.

अरबाज और आर्यन से नहीं है कोई संबंध

मुनमुन के वकील ने कोर्ट को बताया कि उनकी क्लाइंट का अरबाज और आर्यन से कोई संबंध नहीं है, इसके बावजूद उनके साथ उसकी गिरफ्तारी हुई है. उन्होंने आगे कहा कि अरेस्ट मेमो के मुताबिक जिस आधार पर मेरी क्लाइंट को गिरफ्तार किया गया है उससे उनका कोई लेना देना नहीं है. वह कोई सेलिब्रिटी नहीं हैं. एनसीबी के रिप्लाई में भी सारे आरोप आर्यन और अरबाज पर हैं. एनसीबी का कहना है कि मेरी क्लाइंट के पास से पांच ग्राम ड्रग्स मिला. जबकि पहले पंचनामा में कहा गया था कि उनके कमरे से ड्रग्स मिला. एनसीबी के आरोपों का मेरी क्लाइंट से कोई लेना देना नहीं है. अगर मेरी क्लाइंट के कमरे में कुछ मिला है तो इसके लिए बलदेव से पूछताछ होनी चाहिए क्योंकि उसी ने कमरा बुक किया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here