राकेश टिकैत ने किया ऐलान, दिल्ली बॉर्डर से वापस नहीं जाएंगे किसान, 5 सितंबर की पंचायत में होगा आगे की रणनीति का फैसला

0
276

भारतीय किसान यूनियन के राकेश टिकैत ने बड़ा बयान दिया है. रामपुर में राकेश टिकैत ने कहा कि किसान दिल्ली बॉर्डर से वापस नहीं आएंगे, वहीं रहेंगे. सरकार को किसानों से बातचीत करनी चाहिए. उन्होंने कहा कि 5 सितंबर को बड़ी पंचायत बुलाई गई है. आगे की रणनीति को लेकर इसी पंचायत में निर्णय लिया जाएगा. सरकार के पास दो महीने का समय है. सरकार भी अपना फैसला कर ले, किसान भी कर रहे हैं. ऐसा लग रहा है देश में जंग होगी, युद्ध होगा.

रिपोर्ट के अनुसार राकेश टिकैत रामपुर में किसानों का हालचाल जानने आए हैं. टिकैत ने कहा कि हमने डीजल को लेकर आंदोलकर किया तो कह रहे हैं महंगाई से आपकों क्या मतलब है? हम डीजल खरीद रहे हैं, देख रहे हैं सरकार सब्सिडी दे रही है या नहीं. किसान अपनी जेब से डीजल खरीद रहा है. गन्ने का भुगतान नहीं किया जा रहा. तराई वाली बेल्ट बेल्ट को इससे नुकसान हो रहा है. देश के किसान की हालत काफी नाजुक है.

शांतिपूर्ण तरीके से जारी रहेगा प्रर्दशन

टिकैत ने कहा कि सरकार जो कानून लाई है इससे किसानों को ज्यादा नुकसान होगा. सरकार ये कानून वापस ले और किसानों से बात करे, नहीं तो ये आंदोलन जारी रहेगा. राकेश टिकैत ने कहा कि किसानों में गर्माहट है. हम शांतिपूर्ण तरीके से धरना दे रहे हैं. इसलिए सरकार नहीं हमारी बात नहीं सुन रही. अगर हम क्रांतिकारी तरीके से धरना देंगे तो सरकार हमारी सुन लेगी. लेकिन वो हम कर नहीं सकते.

संसद घेराव की तैयारी

किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि हम शांति के पुजारी है. हम हमशा धरनों पर शांति से विश्वास रखते हैं. किसान द्वारा संसद का घेराव करने पर टिकैत ने कहा कि किसान संसद भवन का रास्ता जानते हैं. 22 जुलाई को 200 लोग वहां जाएंगे. जब तक ससंद का सत्र चलेगा रोजाना 200 लोग वहां जाएंगे. अब किसान जब भी जाएगा संसद भवन ही जाएगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here