दिल्ली दफ्तर में पहुंची पुलिस तो ट्विटर ने दिया बयान- ‘अपने कर्मचारियों की सुरक्षा को लेकर हमें चिंता है’

0
288

भारत में कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के बीच छिड़े टूलकिट विवाद को लेकर दिल्ली पुलिस की टीम हाल ही में ट्विटर के दफ्तर जांच के लिए पहुंची थी। अब इस पूरे मामले पर ट्विटर ने अपनी प्रतिक्रिया दी है और भारत में काम कर रहे अपने कर्मचारियों की सुरक्षा को लेकर चिंता जताई है। ट्विटर ने गुरुवार (27 मई) को कहा कि वह अपने भारतीय कर्मचारियों की सुरक्षा को लेकर चिंतित है क्योंकि हाल ही में पुलिस के एक टीम हमारे नई दिल्ली के दफ्तर में गई थी। ट्विटर ने पुलिस द्वारा डराने-धमकाने की रणनीति का भी जिक्र किया है। यह पहली बार है जब माइक्रो-ब्लॉगिंग साइट ट्विटर ने नियमों पर बात की है।

“कांग्रेस टूलकिट” विवाद को लेकर सरकार के साथ टकराव के बीच नए डिजिटल नियमों पर ट्विटर ने अपनी चुप्पी तोड़ी है। ट्विटर ने भारत में “अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए संभावित खतरे” और “पुलिस द्वारा डराने-धमकाने की रणनीति के उपयोग” पर चिंता जताई है। तीखे शब्दों में ट्विटर ने कहा कि हम अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के सामने खतरे की जो आशंका पैदा हुई है, उसको लेकर भी चिंतित हैं क्योंकि इसी के लिए हम काम करते हैं।

दिल्ली पुलिस का नाम लिए बिना ट्विटर ने जताई चिंता

दिल्ली पुलिस का नाम लिए बिना, ट्विटर ने कहा कि उसे “पुलिस द्वारा डराने-धमकाने की रणनीति” के उपयोग के संबंध में चिंता है। अपने बयान में, ट्विटर ने नए आईटी नियमों के बारे में अपना रुख स्पष्ट किया है।

ट्विटर ने अपने बयान में कहा, ”अभी, हम भारत में अपने कर्मचारियों के बारे में हालिया घटनाओं और उन लोगों की अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के लिए संभावित खतरे से चिंतित हैं जिनकी हम सेवा करते हैं। हम, भारत और दुनिया भर में नागरिक समाज में कई लोगों के साथ, हमारी वैश्विक सेवा की शर्तों को लागू करने के साथ-साथ नए आईटी नियमों के मूल तत्वों के जवाब में पुलिस द्वारा धमकाने की रणनीति के उपयोग के संबंध में भी चिंतित हैं।”

नए आईटी नियमों पर ट्विटर ने कहा, नए आईटी नियमों में ऐसे तत्व हैं जो स्वतंत्र बातचीत को रोकते हैं और फिलहाल ट्विटर के पास भारत में अपने कर्मचारियों की सुरक्षा जैसे मुद्दे भी देखने के लिए हैं।

ट्विटर ने कहा- भारतीय कानून के पालन की कोशिश करेंगे लेकिन…

भारत के लोगों को अपनी सर्विस देने की प्रतिबद्धता दोहराते हुए माइक्रो ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म ने कहा कि वह भारत सरकार के साथ अपनी रचनात्मक बातचीत जारी रखेगा। ट्विटर ने कहा है कि जनता के हितों की रक्षा के लिए निर्वाचित अधिकारियों, उद्योग और नागरिक समाज की सामूहिक जिम्मेदारी है। ट्विटर ने कहा, ”हमारी सेवा बनाए रखने के लिए, हम भारत में लागू कानून का पालन करने का प्रयास करेंगे। लेकिन, जैसा कि हम दुनिया भर में करते हैं, हम पारदर्शिता के सिद्धांतों, सेवा पर हर आवाज को सशक्त बनाने की प्रतिबद्धता और कानून के शासन के तहत अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और गोपनीयता की रक्षा के लिए कड़ाई से इसका भी पालन करेंगे।”

ट्विटर ने कहा, ”हमारी सेवा बनाए रखने के लिए, हम भारत में लागू कानून का पालन करने का प्रयास करेंगे। लेकिन, जैसा कि हम दुनिया भर में करते हैं, हम पारदर्शिता के सिद्धांतों, सेवा पर हर आवाज को सशक्त बनाने की प्रतिबद्धता और कानून के शासन के तहत अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और गोपनीयता की रक्षा के लिए कड़ाई से इसका भी पालन करेंगे।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here