अधिकारियों ने बताया कब से लगेगा दिल्ली में कोरोना वायरस का टीका

0
201

भारत सरकार ने दो-दो कोरोना वैक्सीन को मंजूरी दे दी है। पूरे देश में अभी ड्राई रन जारी है। लोगों को टीकाकरण की तारीखों की बेसब्री से इंतजार है। जब दिल्ली सरकार के अधिकारियों से इसके बारे में पूछा गया को उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों और और फ्रंटलाइन कार्यकर्ताओं का टीकाकरण बुधवार से शुरू होने की संभावना है। इसके लिए वैक्सीन की पहली खेप जल्द ही पहुंचने वाली है। 

अधिकारियों ने कहा कि एक बार खुराक उपलब्ध हो जाने के बाद, सरकार को कोल्ड चेन और लॉजिस्टिक्स का पता लगाने के लिए एक या दो दिन की आवश्यकता होगी। जिलों में लंबे समय से सूचीबद्ध 55 सरकारी और 105 निजी अस्पताल हैं, जिनमें से प्रत्येक में 100 से अधिक स्वास्थ्य कर्मचारी हैं। 
इनमें एम्स, सफदरजंग, लोक नायक, जीटीबी और हिंदू राव जैसे अस्पताल शामिल हैं। निजी अस्पतालों की सूची में मैक्स, फोर्टिस, अपोलो, बीएल कपूर और गंगाराम शामिल हैं। सभी केंद्रों पर वैक्सीन की आपूर्ति दिल्ली सरकार द्वारा की जाएगी और यह लाभार्थियों के लिए मुफ्त होगी।

नाम नहीं बताने की शर्त पर जिले के एक अधिकारी ने कहा, “यह सोचा गया था कि रोल-आउट पहले अस्पतालों में शुरू होना चाहिए, क्योंकि किसी भी प्रतिकूल घटना होने पर तत्काल आपातकालीन देखभाल की व्यवस्था रहेगी। अमेरिका और ब्रिटेन में हमने जो देखा है, उससे कुछ लोगों को एलर्जी, बुखार, जोड़ों में दर्द और चकत्ते हो गए थे। हमें सभी घटनाओं के लिए तैयार रहने की आवश्यकता है क्योंकि हम अभी भी यह नहीं जानते हैं कि भारत के लोगों पर टीकों की प्रतिक्रिया कैसी होगी।”

दिल्ली सरकार के एक दूसरे अधिकारी ने कहा, “टीके सोमवार या मंगलवार तक हमारे पास होने चाहिए, जिसके बाद हमें स्टोर से साइटों तक इसे प्राप्त करने के लिए कोल्ड चेन और अन्य लॉजिस्टिक्स का पता लगाने के लिए कुछ दिनों की आवश्यकता होगी। एक बार ऐसा होने पर, सभी चयनित केंद्रों पर वैक्सीन ड्राइव शुरू हो जाएगा।”

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अधिकारी ने नाम नहीं बताने की शर्त पर कहा, ‘इन तैयारियों के पूरे होने के बाद भी केंद्र सरकार टीका निर्माताओं के साथ खरीद आदेशों पर हस्ताक्षर करने के लिए लागत और कागजी कार्रवाई पर कुछ बातचीत कर रही है। इस सप्ताह इसे अंतिम रूप दिया जा सकता है।’

दिल्ली में उपलब्ध होने वाला पहला टीका संभवतः ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका होगा, जिसे भारत में कोविशिल्ड कहा जाता है। इसके पुणे के सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा तैयार किया जाता है। भारत बायोटेक की कैवोक्सिन को भी मंजूरी मिली है।

टीकों की पहली खेप को ताहिरपुर के राजीव गांधी सुपर स्पेशलिटी अस्पताल में दिल्ली के केंद्रीय भंडारण की सुविधा में रखा जाएगा। अस्पताल में दो मंजिल का उपयोग स्टोर के रूप में किया गया है। आवश्यक तापमान पर वैक्सीन को स्टोर करने के लिए ब्लॉक में लगभग 90 डीप फ्रीजर लगाए गए हैं। पूरे भवन में सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि खुराक सुरक्षित रहे। दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य विभाग के एक तीसरे अधिकारी ने कहा टीके आने पर अतिरिक्त सुरक्षा प्रदान करने के लिए पुलिस से संपर्क किया गया है। टीके इस समय सोने की तरह हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here